इमारत एक आलीशान है दिल

_____ ग़ज़ल __________

इमारत एक आलीशान है दिल
कई दिन से मगर वीरान है दिल

कभी ग़ालिब के जैसा शोख़ चंचल
कभी तो मीर का दीवान है दिल

तुझे क्या हमने समझाया नहीं था
मोहब्बत में बड़ा नुक़्सान है दिल

किसी की बात सुनता ही नहीं है
बहुत गुस्ताख़ नाफ़रमान है दिल

तबाही का नहीं अफ़सोस लेकिन
रवैये से तेरे हैरान है दिल

______राज़िक़ अंसारी _____

         

Share: