उम्र दर उम्र यूं रह – नुमाई करो

गजल

उम्र दर उम्र यूं रह – नुमाई करो |
उम्र दर उम्र से आशनाई करो |

उम्र दर उम्र का तकाजा रहा |
उम्र दर उम्र तुम बे – वफाई करो |

उम्र दर उम्र गर इश्क़ होता रहे |
उम्र दर उम्र बस ‘ दिलरुबाई करो |

उम्र दर उम्र आला ‘ खुदा हो गये |
उम्र दर उम्र जिनकी खुदाई करो |

उम्र दर उम्र मुमकिन जवानी कहां |
उम्र दर उम्र तुम मुहँ भराई करो |

उम्र दर उम्र जब मक्तलों में रहे |
उम्र दर उम्र फिर पारसाई करो |

उम्र दर उम्र बस चर्चा होगा तेरा |
उम्र दर उम्र गर मुहँ दिखाई करो |

उम्र दर उम्र मैं खाक होता रहूं |
उम्र दर उम्र ख़्वाबे हवाई करो |

उम्र दर उम्र अरविन्द क्या चाहते |
उम्र दर उम्र फिर हमनवाई करो |

         

Share: