औरत खामोश रही होगी

दिल की ही सुनी होगी दिल से ही कही होगी|
वो आँख न वैचारी बे वजह बही होगी|
++
दौलत में हुनर कब था इन्सान बनाने का,
दीवार अदावत की उल्फत से ढही होगी|
++
रूकती न हिचकियों का इल्जाम किसे मैं दूँ,
तोड़ा था ये दिल मेरा दावे से वही होगी|
++
हँसकर जो सजाते हो दौलत को तिजौरी में,
जाने वो कितनों के घर में न रही होगी|
++
दुनियां में नहीं यूँ ही मकबूल वो आलिम है,
औरत जरूर कोई खामोश रही होगी|
++
तारीक ने वैसे तो कई नाम सुनाये हैं,
मालूम इबारत क्या लिक्खी वो सही होगी|
++
इक घाट “मनुज” पीया जल शेर बकरियों ने,
वो और ही दुनियां थी सोचो न यही होगी|

         

Share: