“ज़िंदगी हर कदम इक नई जंग है”…

°°°

जीवन में महसूस करो तो होते कई तरह के रंग हैं ।

कुछ भी कर लो यारों , ज़िंदगी हर कदम इक नई जंग है ।

••
एक अच्छी ज़ज़्बात जीने की प्यास हमेशा बढ़ा जाती ,
विचारों को मन में लाना भी ज़िंदगी का अनमोल अंग है ।
••
ग़र विचार मर गये तो जीने का क्या मतलब ?
अच्छी सोच हो तो ज़िंदगी में हरदम नई तरंग है ।
••
ये भी जान लो जमीन और मुकद्दर की फ़ितरत एक है ,
नीयत बोई जो ख़राब , अहसास भी निकलता अपंग है ।
••
एक सलीका अवश्य दिखता है हर व्यक्तित्व में ,सोच लो ,
पता लग जाएगा जीने का कैसा ढंग है ?
••
समय की दरकार हर किसी को है बहुत मगर ,
सोचने का गलियारा अक़्सर होता बहुत तंग है ।
••
काबू कर लो गुस्से पे तो यक़ीनन अच्छा होगा ,
वरना समझ लो शांतिपूर्ण ज़िंदगी वाकई भंग है ।
••
सुना है कोशिश करने से हार कभी नहीं होती ,
सच में ! हर प्रयास में उम्मीद का होता संग है ।
••
किसको क्या मिला मुकद्दर की बात है न कहना “कृष्णा”,
अपने बाजुओं की ताकत से होता कोई मस्त-मलंग है ।
°°°

         

Share: