बाज सी जो उड़ान होती है

बाज सी जो उड़ान होती है
हर घड़ी इम्तिहान होती है

आज की बात कीजिये केवल
मुस्तक़िल किसकी शान होती है

प्यार का ज़िक्र क्या ज़रूरी था
आम क्या उसकी आन होती है

धर्म को जान कर ही जाना ये
एक गीता,कुरान होती है

आज बेटी को उसने समझाया
बाप की वो भी जान होती है

‘भवि’ मेरे देश की है ये ख़ूबी
आरती सँग अज़ान होती है

शुचि ‘भवि’

         

Share: