“मुकरना नहीं चाहिए”…

°°°
दिल तोड़के किसी का संवरना नहीं चाहिए ।
ज़ुबान देकर किसी को मुकरना नहीं चाहिए ।
••
ग़म औ खुशी का आना-जाना तो लगा रहता ,
बात-बात में हमेशा सुबकना नहीं चाहिए ।
••
बारिश-तूफ़ानों का इरादा जब ख़तरनाक है ,
जानबूझकर गृह से निकलना नहीं चाहिए ।
••
दूजों की चुगली करने में भला क्या रखा है ?
आग लगा चुपचाप सरकना नहीं चाहिए ।
••
छवि बनाओ ऐसे कि लोग याद रखे ताउम्र ,
किसी की आँख में शक़ल खटकना नहीं चाहिए ।
••
सफलता मिलेगी , चाहे कुछ भी काम तो करो ,
बस आधे-अधूरे में बदलना नहीं चाहिए ।
••
कितना गहरा है इश्क़ , पहले जान लो “कृष्णा”,
हड़बड़ी कर मैदां में उतरना नहीं चाहिए ।
°°°
— °•K.S. PATEL•°
( 18/03/2019 )

         

Share: