मुस्कुराओ तुम

—–गमों का बोझ यूं तन्हा—–
गमों का बोझ यूं तन्हा न अपने सर उठाओ तुम।
शरीके-गम हमें कर लो और मुस्कराओ  तुम।

चुभा करती हैं जो बातें पुरानी ख़ार के जैसे,
उन्हें अब दफ़्न करदो दर्द अपना न बढाओ तुम।

कई अपनों को बख़्शे हैं तुम्हीं ने ख़्वाब के मोती,
मगर अब ढल रहे सूरज को ज्यादा मत थकाओ तुम।

मिले हैं जख़्म जितने भी दवा उनकी करेंगे हम,
मगर इस जिंदगी को और न दोज़ख़ बनाओ तुम।

तुम्हारे साथ फूलों का सफर जब तय किया हमने,
चुना पलकों से हर काँटा, उसे तो मत भुलाओ तुम।
——राजश्री——

         

Share: