“सीख लो” …

°°°
हालात और वक़्त से नज़रें मिलाना सीख लो ।
हादसे होते रहेंगे …….. उसे भुलाना सीख लो ।
••
कहीं बहुत ग़म है तो कहीं पर बहुत खुशी भी है ,
ज़िंदगी में पलों से बस… परतें हटाना सीख लो ।
••
यक़ीन मानो सभी समस्या का कुछ न कुछ हल है ,
गुज़ारिश है ….. उसे परिवार को बताना सीख लो ।
••
मुसीबत के हौसले…पस्त ज़रूर हो जायेंगे ,
हर मुसीबत में हौले से मुस्कुराना सीख लो ।
••
वाकई आपका चरित्र भी निखर जायेगा बहुत ,
गलत काम होगा कैसे , जो घबराना सीख लो ?
••
चुप रहना भी …….. कतई नहीं कोई कारगर दवा ,
अच्छी ज़िंदगी चाहिए तो खिलखिलाना सीख लो ।
••
जीवन में सदा कुछ न कुछ विकार मिलते रहेंगे ,
तन-मन कुंदन होगा ….. इन्हें मिटाना सीख लो ।
••
रास्ते और भी हैं यहाँ ……. मंज़िल पाने के लिये ,
ज़रूरत यही है कि ख़ुद को आज़माना सीख लो ।
••
ज़ख़्म देना किसी इंसान का काम नहीं “कृष्णा”,
इंसानियत है तो… मरहम भी लगाना सीख लो ।
°°°

         

Share: