हास्य दोहा

मरनी पर नेता यहाँ ,मना रहे हैं सोग
बाहर बैठे निर्जला,भीतर छप्पन भोग ।।

स्वराक्षी स्वरा

         

Share: