Category Archives: गीत (प्रेम)

“मैं तेरे नाम हो जाऊँ”…

°°° लफ़्ज़ बने अगर तू तो मैं इक क़लाम हो जाऊँ । तू मेरे नाम हो जा और मैं तेरे नाम हो जाऊँ ।। . ये अहसास है क्या ज़रा तुम महसूस तो करो , खाली कैनवास है , इसपे ज़रा तुम रंग तो भरो । बन जाओ अगर राधा तो तेरा श्याम हो जाऊँ […]

मौन हुई वीणा मधुवन की,

हुई मैं तो प्रवासी दूर मंजिल की, कान्हा थकान हरो जीवन की। बीता यौवन इंतज़ार में, भ्रमित वचनों के खुमार में। मौन हुई वीणा मधुवन की, मुरझाई देख कली भी मन की । तेरी मधुर बांसुरी नींद भरी है, नहीं भोर रही पर सांझ उतरी है । शांत हुई बुलबुल जीवन की, नहीं कूकती कोयल […]

आइना

इतना प्यार भरा हृदय में,तू ही बता मैं तोलूं कैसे खामोश दर्पण बोल रहा है,मेरे उर की बोली जैसे। प्रेम-यज्ञ सम प्रीत हमारी, पुष्प अर्ग का अर्पण हूं मैं खुद में प्रीतम तुम्हें दिखाऊं,तेरे हृदय का दर्पण हूं मैं । चंचल नयनों से बतियाऊं, हृदय अशआर समर्पण हूं मैं भाषा से क्या लेना तुझको, तेरी […]

“तुझे संसार कहूँ”…

°°° तुझे सच्चा यार कहूँ या मेरा प्यार कहूँ । तुझे संसार कहूँ या इस दिल का तार कहूँ ।। . मेरी शान तू , ईमान तू , अरमान भी तू , मेरी साँस तू , धड़कन तू और जान भी तू । तुझे खुशी कहूँ या फिर मौसमे-बहार कहूँ , तुझे संसार कहूँ या […]

झूले

देख प्रिय झमाझम मेघ बरसते,सावन के झूले पड़े हैं। छम छमाछम गिरतीं बूँदें से नीमतरु निंबोली पके है। चम चमाचम बिजरिया चमके रही देखो बीच अंबर के। विरहन प्रेयसी पी बिछोह के तम में,सपने जागे अंतर्मन के। देखो पगली झूल रही अंखियों में सपने बुनकर। अश्रु फुहार झरने सी झरती,सुलोचना मन भर भर। विरह बयार […]

अहसास

ये जो एहसास है अद्भुत अद्वितीय और ख़ास है। जश्न है,महफिल है,नगमा है,सरगम है उल्लास है। आशना है, प्रेम का तराना है,मोहक मधुर फसाना है। जीस्त का नज़राना है, एहसास करता भंवर को दिवाना है। एहसास प्रीत का उपहार है,इश्क का इजहार है। लबों पर लिए सुर्ख तबस्सुम, शर्मीला सा इकरार है। एहसास हृदय में […]

“ये आँखे”…

°°° क्या है दिल में , ये टटोलती हैं । ये आँखें बहुत कुछ बोलती हैं ।। . कहना क्या है ज़रा बोल भी दो , कुछ राज़ है ग़र तो खोल भी दो । सुन लो हर अहसास तोलती हैं , ये आँखें बहुत कुछ बोलती हैं ।। . कहाँ तड़प है , छुपेगी […]

वो लड़का बहुत याद आता है

कभी मुझ को रुलाता कभी मुझ को हँसाता कितना सताता है। वो लड़का बहुत याद आता है..2 कभी मुझ को मनाता कभी खुद रूठ जाता कभी सीने से लगाता वो लड़का बहुत याद आता है। कभी कुछ गुनगुनाता कभी नगमे सुनाता फिर जब मुस्कुराता वो लड़का बहुत याद आता है कभी बारिश में भीगता कभी […]

चाँद को ज़मीं पर उतरते देखा है।

मैंने चाँद को आज ज़मीं पर उतरते देखा है।। धीरे-धीरे अपने करीब से गुजरते देखा है।। वो खूबसूरत था, उस पर दाग ना था।। फूलों सी खुशबू, पर कोई बाग़ ना था।। उसकी चमक ने, दूर अँधेरा कर दिया।। रात में ही जैसे मानो सवेरा कर दिया।। मेरे अन्दर के जज्बातों को उमड़ते देखा है।। […]

“खोना चाहता हूँ”…

°°° प्रीत के धरातल पर ज़िंदगी का बीज बोना चाहता हूँ । पल का पहिया भले रूके , मैं तुझमें खोना चाहता हूँ ।। . अब और भटकने का गवाही ये मेरा मन नहीं देता , उमर के पड़ाव में हमेशा साथ मेरा तन नहीं देता । चाह लो एक बार , बस तेरे दिल […]

मेघ मनुहार

मेघ मनुहार बादल- बदली कर रहे शीर्ष गगन मनुहार सजल नयन में ढूँढते, जन्म जन्म का प्यार। क्षितिज पार अंबर ऊपर, धवल मेघ संसार नयन नयन में हो रहा अभिव्यक्ति का संचार। पल दो पल का साथ प्रिये,हम भू जल आधार दोनों को ही है बरसना,हर प्राणी की है पुकार। प्‍यार भरे मनुहार भरे,बस इसी […]

आएंगे होली पे घर मेरे साजन

एक गीत सादर होली पर श्रृंगार रस उड़ता गुलाल देखो,प्रीत के आंगन आएंगे होली पर घर मेरे साजन ।। गोरे बदन पे जब रंग मलेंगे उफ़! मदहोशी कैसे सहेंगे । चुम के मुखड़ा कर देंगे चानन आएंगे होली,,, बेला गुलाब से सेज़ सज़ा कर धन्य होगी तरुणाई, नेह लगा कर प्रेम से पूर्ण होता स्वरा […]

सुनो साँवरे

गीत ——- सुनो साँवरे प्यार तुम्हारा जब से आन बसा दिल में । बना लिया है प्राप्य तुम्हें है दिल अटका इस मंजिल में ।। तुम क्या जानो प्रीत प्यार को निर्मम बन कर भरमाया , पहले प्यार जगाया मन में फिर कहते सब है माया । श्याम तुम्हारी इसी अदा ने डाल दिया है […]

“वो टेसू के फूल तुम्हारे”

वो मधुरिम मधुमास सलोना, पुष्प खिले थे डाली-डाली। ललित-पल्लवित वन-उपवन थे, चहुँ और बिखरी हरियाली। कोयल भी नित दोहराती थी, वो सुमधुर से गीत हमारे।। इस जीवन को महकाते हैं, वो टेसू के फूल तुम्हारे।। जुगनू की झिलमिल सी टोली, निर्मल सी बहती जल-धारा। शीतल-शीतल पवन के झोंके, सुरभित-कुसुमित नदी-किनारा। स्वप्निल सी थी निशा अनोखी, […]

अभिलाषा

कह लो पीर मेरे मनमीत! सुन सहती सब हृदय की भीत।। यह अभिलाषा है जीवन की, रहे अटूट आजीवन प्रीत।। अम्बर से आग बरसती है, उबल रहा है मन मानव का। नेह प्रेम का घट छलका दो, कर दो शीतल जीवन सबका।। करबद्ध यही विनती विनीत। कह लो पीर मेरे मनमीत! प्यासी वसुधा सोच मग्न […]

“मानो कठपुतली हम”…

°°° तेरी अहसास की खूशबू मानो चंदन-चंदन है । तेरी स्नेहिल प्रीत को मेरा बारंबार वंदन है ।। • तन से फेरे न हुए तो उस बात का कोई ग़म नहीं , दूर रहकर भी जीवन भर कभी दूर हुए हम नहीं । मन से हो गया हो मानो एक अटूट गठबंधन है , तेरी […]

जीवन के इस लंबे पग पर

गीत ( जीवन के इस लंबे पथ पर ) ——————————– जीवन के इस लंबे पथ पर मन का साथ तुम्हारे पाया आत्मा का सम्बंध किन्तु पथ का आयाम नहीं बन पाया ।। पलक – पाँवड़े पड़े दृगों से तेरी छवि उर – पुर में आयी, तेरी पग – रज गंगा की पावनता बन नयनों में […]

तुम कह दो तो

गीत ——– जीवन के इस लंबे पथ पर मन का साथ तुम्हारे पाया आत्मा का सम्बंध किन्तु पथ का आयाम नहीं बन पाया ।। पलक – पाँवड़े पड़े दृगों से तेरी छवि उर – पुर में आयी, तेरी पग – रज गंगा की पावनता बन नयनों में छायी । स्नेह तृषित उर के ईरिण पर […]

माधुरी गन्ध की वो छुअन

माधुरी गन्ध की, वो छुअन क्या मिली, सुप्त वीणा हँसी, सुर सजाने लगी। नाचने लग गईं तितलियाँ बाग में, टोली भौंरों की, जब गुनगुनाने लगी। सूनी आँखों में, फिर ख़्वाब सजने लगे, हर तरफ, प्रीति के साज बजने लगे। साँझ के नैन, झुकने लगे लाज से, चाँदनी देखकर, खिलखिलाने लगी। थी गली एक, सुनसान – […]

जाने की अब न बातें करो

जाने की अब न बातें करो | चंद लम्हात को तो रुको | *** जाने की अब न बातें करो | *** देर होती है तो होने दो अब सनम ये बहाने सभी छोड़ दो | *** जाने की अब न बातें करो | *** दिन महीने बने और महीने बरस फिर बरस एक लम्बी […]