Category Archives: मुक्तक (संदेशात्मक)

महिला दिवस

*विश्व नारी दिवस 🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻 वो ही वो बस वो ही वो । धर गर्भ धरा सा रचती जो । बीज जहाँ नव अंकुर फूटे , रचती सृष्टि जो नारी है वो । ….. *विवेक दुबे”निश्चल”*@..

कान्हा

भटक न जाऊँ कहीं तुम राह दिखाना कान्हा, मन में बहुत अंधेरा है उजाला फैलाना कान्हा, गलत न हो मुझसे, कभी भी कोई दिल न टूटे, बस इतना सा सच्चा और अच्छा बनाना कान्हा। सखी