Category Archives: बाल गीत

हम गीत बनैबै नया-नया

एक अंगिका गीत हम गीत बनैबै नया-नया पढै लिखैय्ले इस्कूल जइबे हम रीत बनैबै नया-नया हम,,,,,,,,,,,,,, अ-आ पढ़बै क-ख पढ़बै,पैढ़ लिख के हम मास्टर बनबै मास्टर बैन के बच्चा पढैईबे, इस्कूल बनैबै नया-नया हम,,,,,,,,,,,,,, च-छ पढ़बै ट-ठ पढ़बै, पैढ़ लिख के हम डॉक्टर बनबै डॉक्टर बैन के ईलाज करबै,हॉस्पिटल बनैबै नया-नया हम,,,,,,,,,,,,,, त-थ पढ़बै प-फ […]

कागज़ की नाव

चले आओ सभी मिलकर बनाएं नाव कागज की ।। हुई बरसात है कितनी गली में भर गया पानी , सुनो राजू , सुनो  मन्नू , सुनो तो राधिका , रानी । इसी पानी मे तैरायें हमारी नाव कागज की ।। रखी है मेज  पर  कॉपी चलो पन्ने  निकालें  हम , मगर  ठहरो  जरा  बाबा की […]

मदारी

मदारी ——— हमारे गाँव में देखो मदारी आज आया है ।। लिये है साथ मे भालू नचाता आ रहा बन्दर कभी वह गांव के बाहर कभी वह गांव के अंदर । नचाकर बंदरों को खेल भी सुंदर दिखाया है । हमारे गाँव मे देखो मदारी आज आया है ।। बन्दरिया ओढ़ कर चुनरी बड़े नखरे […]

जब बोलो जब मीठा बोलो

*जब बोलो जब मीठा बोलो कोयल काली, कौआ काला। बोल दोनों का अलग निराला। कौआ कांव कांव चिल्लाता। जग के मन को कभी न भाता। कोयल कुहूँ कुहूँ जब बोले, कानों में मिसरी सी घोले। कड़वे बोल न बोलो भाई, जग में होती बहुत बुराई। जब बोलो जब मीठा बोलो। कानों में मिसरी सी घोलो। […]