Category Archives: ग़ज़ल (दर्द)

“कुछ क़सक़ ऐसा भी”…

°°° बेरंग ज़िंदगी को रंगने का , कुछ क़सक़ ऐसा भी । रिश्तों के दरम्यां गुज़रने का , कुछ क़सक़ ऐसा भी । •• सुबह से लेकर शाम तक मानो एक जैसा मंज़र , ख़्वाहिश से किस तरह उबरने का , कुछ क़सक़ ऐसा भी । •• इक तलाश रही कि जी को कुछ सक़ून […]

नगमा ए दिल

ग़ज़ल .नगमा ए दिल मेरी बर्बादी का जश्न मना के लौट रहे हो। अच्छा है कुछ प्यार जता के लौट रहे हो। फक्र है तेरी बेवफा ए मोहब्बत पर, अपनी मोहब्बत दफना के लौट रहे हो। जरा सुन किसी और से न खेलना इस तरह, जिस में मुझे तुम मिटा के लौट रहे हो। ये […]

बेवफा मोहब्बत

ग़ज़ल रुठकर हमसे यूँ, सताने की सोच रहे हो। दूर होकर भी, तड़फाने की सोच रहे हो। वैसे भी कुछ नहीं रखा जा मोहब्बत में, अक्सर कि तुम,भूलाने की सोच रहे हो। फरेब है,धोखा है सब में है ये छलावा, बाखूब जानता हूँ,मिटाने की सोच रहे हो। हम डूब गए वैसे भी आँसुओं के सागर […]

“ये मकान उसका था”…

°°° बात बस ये जाना , मेरे पास कुछ सामान उसका था । रहे कोई कैसे मेरे दिल में , ये मकान उसका था । •• पता है उसे तन्हाई से मुझे बेहद डर लगता है , तन्हा छोड़ जाये या फिर नहीं , बस ईमान उसका था । •• इश्क़ का बँटवारा रजामंदी से […]

बहाल ए बद

करें भी चोट का किससे यहाँ गिला कोई| दियारे ग़ैर में अपना नहीं मिला कोई| (दियारे ग़ैर–दूसरे देश, परदेश|) ++ मियाने राह में बैठा बहुत जला कोई| मगर तपिस में न पत्थर वहाँ गला कोई| (मियाने राह- रास्ते के बीच) ++ ख़याले ख़ाम की बातें सुना गया जालिम, भरी थी बज्म न अपनी जगह हिला […]

अपना पराया

अब जैसा ज़माना है ये ऐसा भी नहीं था इन्सान को इन्सान से ख़तरा भी नहीं था उस दर्द में भी मैंने गुज़ारे हैं शब-ओ-रोज़ जो दर्द मिरी ज़ात का हिस्सा भी नहीं था जिस ख्वाब की ताबीर बताई गई मुझको वो ख़ाब तो मैंने कभी देखा भी नहीं था क्यों आँख से पलकों पे […]

वो ख़ाब कोई आँखों में पलने नही देते

वो  ख़ाब  कोई  आँखों  में पलने नही देते।। गुलशन में नये गुल कभी खिलने नही देते।। दस्तक़ किसी की दिल में सुनाई नही देती।। हम  ख़ाब सुनहरे  यूं  ही पलने  नही  देते।। यूं गेसुओँ  में  उलझी  हुई हैं नज़र उनकी।। हम चाल  उनकी कोई भी चलने नही देते।। वैसे  तो  कई  रतजगे  हमने  भी किये […]

मुद्दतों का दर्द

गजल तुम्हें और क्या ये सुनाऊँ मैं, मुझे आफतों से यही मिला| मेरा एक दिन का न दर्द ये, मुझे मुद्दतों से यही मिला| ++ मेरे रुख पे था किसी चांद की, वो तो चाँदनी का गुबार था| हूँ बुझा बुझा जो मैं खाक सा, मुझे जुल्मतों से यही मिला| ++ वो मिला नहीं तो […]

सितम नाज़ तो देखो

‘सितम नाज़ तो देखो’ आँखों से हया टपके है अंदाज़ तो देखो। नाज़ुक से मेरे दिल पे सितम नाज़ तो देखो। चाहत ने उसी की हमें दीवाना बनाया, अंजाम खुदा जाने है आगाज़ तो देखो। क्या जोशे-मुहब्बत का तुम्हें हाल बतायें, टूटा जो मेर दिल का वो साज तो दखो। तहरीर दिलो-जां पे ये तुमने […]

दिल दुखाके भी वो मेरा नादान सा है।।

चाँद तारे भी देखके तुमको हैरान सा है।। रुख़ क्यों आसमाँ का ही ये बेज़ान सा है।। मेरी भी ज़िन्दगी गुज़री परेशानी में ही।। बादलों के मध्य सूरज भी हैरान सा है।। ये सुई और धागे में ही तो मोहब्बत है।। दिल दुखाके भी वो मेरा नादान सा है।। इस हवा में तो साँसे लेना […]

ज़िंदगी  कोई  यहाँ  पे हैं  सज़ा हो जैसे

ज़िंदगी को भी तो हमसे यूं गिला हो जैसे दर्द उसको भी मुहब्बत में  मिला हो जैसे।। देख  ले  मेरा भी  कोई  मुक़द्दर यहाँ पे यार के प्यार की अब कोई दुआ हो जैसे।। मर  गया  वो  पतंगा  भी  तो इश्क़ में ही अब मुहब्बत से ही होती हैं नफ़ा हो जैसे।। भूख़ी आत्मा को […]

मुसाफ़िर बन गया हूँ!

गजल आईने सी टूटी हुई तस्वीर बन गया हूँ! रूठे हुए भाग्य की लकीर बन गया हूँ! अब कहाँ बसेरा इस बेबस इंसान को, दो गज की मिली जागीर बन गया हूँ! कैसे लगे निशाना अब अपने लक्ष्य पर, टुकड़े हुए कमान का तीर बन गया हूँ! बढ़ नहीं सकता दो कदम आश लिए , […]

रिश्तों की अहमियत का जमाना कहाँ रहा!

गजल छलकने वाले जाम का मयख़ाना कहां रहा! आजकल दिलजलों का ये ठिकाना कहां रहा! वो बैच गए पैसों पर अपने आप को यारो, मेरे दिल का वहां अब आशियाना कहां रहा! क्या चाहत है फ़रेबी चेहरे पर देखने को मिली, रिश्तों की अहमियत का जमाना कहाँ रहा! टूटा हुआ आईना पूछ रहा है मुझसे […]

तुझसे बिछड़ कर ये बात समझ में आई

तुझसे बिछड़ कर ये बात समझ में आई सुबहों-शाम और दिन-रात समझ में आई जिस्म जब थक के सोया था बिस्तर में हँसी-मज़ाक व मीठी बात समझ में आई मैं ढूँढता ही रहा तुझे हर शय,हर मंज़र में तेरी-मेरी पहली मुलाकात समझ में आई दरो-दीवार भी तेरा इंतज़ार करते रहते हैं बुज़ुबान चीजों की बात समझ […]

लौट आया हूँ

लौट आया हूँ मैं चोट खा करके अब| फाइदा कुछ नहीं दिल लगा करके अब| ++ रास्ता रोकता है बुलन्दी का जो, फैंकना है वो पत्थर उठा करके अब| ++ दोस्ती की जरा भी न की कद्र पर, खुश है वो दुश्मनी ये निभा करके अब| ++ मुझको तकलीफ बस एक ही बात की, वो […]

करवटें बदल कर हमने तमाम रात काटी

जबसे उनके ख्वाबों में अपनी नींदें बाँटी करवटें बदल कर हमने तमाम रात काटी बेचैन सिलबटों में जब उनकी याद जागी तस्वीर उनकी सिरहाने रखके रात काटी चाँद पूरे शाबाब पे जब आसमान में आया उसमें तेरा अक्स देखकर तन्हा रात काटी बादल उमड़-घुमड़ कर मुझे सताता रहा तेरी वस्ल में भीग कर हरजाई रात […]

मरज़ की दवा

तुम मरज की मिरे दवा कर दो या मिरा ज़ख़म और हरा कर दो मैं तो पत्थर हूँ राह का मुझको यूं तराशो कि देवता कर दो चोट देकर पुराने ज़ख़मों को दिल के हर दर्द को नया कर दो याद पहुंचे ना मेरे सीने तक दरमियाँ उतना फ़ासिला कर दो बद-गुमानी की धूल है […]

“फ़ना हो गया”…

2221 2212 2221 2212 °°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°° उसका ख़्याल मेरे लिए बस वाज़िब दवा हो गया । कैसा मरज़ है इश्क़ का , धीमा-सा नशा हो गया । •• कोई कसम खाकर कहे तो अब मान लूँ मैं इधर , वादा तोड़ने का तरीका कैसे वफ़ा हो गया ? •• बतलाना ज़रूरी नहीं है चाक़े-ज़िग़र को उसे […]

भरोसा खुदा पर किये जा रही हूं

भरोसा खुदा पर किये जा रही हूं। मुसीबत से अपनी लड़े जा रही हूं।। मिले ज़ख्म जो वक्त उस को भरेगा इसी आस पर मैं जिये जा रही हूं।। मुझे प्यार का रोग जिसने लगाया उसे भी दुआ मैं दिये जा रही हूं।। कई ख्वाब आंखों में मरने लगे हैं मगर ख्वाब फिर भी बुने […]

यादों ने क्या ज़ुल्म किये दिल जानता है

ग़ज़ल ————— यादों ने क्या ज़ुल्म किए दिल जानता है कैसे हम कल रात जिये दिल जानता है किन लोगों का हाथ रहा बरबादी में किस किस ने एहसान किये दिल जानता है टूटे ख़्वाबों की किरचों ने सारी रात आंखों पर क्या जब्र किये दिल जानता है ग़ैर तो आख़िर ग़ैर थे उनसे क्या […]