Category Archives: गीत

लिखे जो ख़त तुझे वो तेरी याद में हज़ारों रंग के नज़ारे बन गए

गीतों के राजकुमार गोपालदास नीरज का गीत लिखे जो ख़त तुझे वो तेरी याद में हज़ारों रंग के नज़ारे बन गए सवेरा जब हुआ तो फूल बन गए जो रात आई तो सितारे बन गए कोई नगमा कहीं गूँजा, कहा दिल ने के तू आई कहीं चटकी कली कोई, मैं ये समझा तू शरमाई कोई […]

वो हम न थे वो तुम न थे वो रहगुज़र थी प्यार की

गोपाल दास नीरज का फ़िल्म के लिए लिखा गया गीत वो हम न थे वो तुम न थे, वो रहगुज़र थी प्यार की लुटी जहाँ पे बेवजह, पालकी बहार की ये खेल था नसीब का, न हँस सके न रो सके न तूर पर पहुँच सके, न दार पर ही सो सके कहानी किससे ये […]