Rachna SAFE Room

MEMBERSHIP* क्लिक कर सदस्यता लें
और साथ में पाएं एक निःशुल्क सुरक्षित ,सिर्फ़ आपका ,आपके लिए अलग
आपका
रचना सेफ रूम
Rachna SAFE Room
S.R.S

जिसका पासवर्ड एक लिंक आपकी मेल पर मिलने के बाद आप अपनी पसंद का पासवर्ड खुद जनरेट कर ,
अपनी रचनाओं को
अपने अलग सेफ रूम में रखें , एडिट करें , डिलीट , समय तारीख , शीर्षक से रिकॉर्ड रखें एवं खोजें , सर्च/फ़िल्टर ऑप्शन के साथ

जिन्हें देख सकेंगे सिर्फ़ आप

किसी विषम परिस्थिति के लिए जिसके बैकअप/BACKUP की भी व्यवस्था रहेगी

और साथ में
अपना प्रोफाइल मय फ़ोटो , परिचय के अपडेट कर अपनी रचनाओं का स्वयं प्रकाशन एवं रचनाओं को निरंतर अपने प्रोफाइल के साथ संग्रहित कर अधिक से अधिक पाठकों को पढ़ने के लिए उपलब्ध कराने के साथ ,लाइक कंमेंट से प्रतिक्रिया लें

आप शुभारंभ में सादर आमंत्रित हैं
यदि पसंद करें तो शगुन प्रक्रिया में अपनी रचना शामिल करें।
शगुन प्रक्रिया में
रचनाकारों को एक ही रचना पोस्ट पर *4700रुपये तक और पाठकों को कमेंट पर 500 रुपये तक

कृपया वेबसाइट पर आमंत्रण पत्र पढें एवं शगुन प्रक्रिया पर क्लिक करें

रचना सेफ रूम की सुविधा सिर्फ़ रचनाकारों के लिए है

कलमकार पाठकों के लिए नहीं

★ किसी अन्य सवाल के लिए वेबसाइट पर मौजूद MESSAGE US में आप अपना सवाल डाल सकते हैं।

नोट-
लॉकर का नाम बदल कर रचना सेफ रूम कर दिया गया है , सिर्फ़ नाम बदला गया है बाकी सभी सुविधाएं वहीं हैं , कुछ वरिष्ठ का कहना था की जो रचनाएँ एहसासों की आज़ादी का सबब हैं ,उन्हें रखिए कहीं भी महफूज़ जगह पर लॉक तो ना कीजिए।

जो रचनाएँ कहीं नहीं बंधती
रुकती नहीं ,बस जाती हैं बहती
बात सभी के दिल की ,जाती हैं कहती
लॉक हो गईं जो वह खुद, कौन सुनेगा मन की

” इसके अलावा एक वज़ह लॉकर शब्द कुछ असमंज की स्थिति भी पैदा कर रहा था, कुछ सदस्य के मन में की यह क्या है लॉकर ” जैसी प्रतिक्रिया और सवाल आ रहे थे।