काव्य रचना- ( Top Post )

 

दोहा
भक्ति दोहे-कृष्ण का नाम

भक्ति दोहे-कृष्ण का नाम

*दोहे* *(1)* सुबह सुबह हम लेत हैं,श्री कृष्ण का नाम । उनके ही आशीष से, अब हर पल आराम ।। ...
Read More
दोहा
मेहनत पर दोहे

मेहनत पर दोहे

*मेहनत* मेहनत कर कमा रहे ,कैसा गर्द गुबार। मजदूरी छीने गये, कभी आकर उबार ।। सर्द गर्म बरसात पे, करते ...
Read More
गोदभराई

गोदभराई

..........✍️ #गोदभराई मेरी कविता तुम्हारे कवि मन की ब्याहता हुई !! व्याकरण का भाव सौंदर्य उच्चारण के मंत्र शब्द शैली ...
Read More
कहां हो तुम

कहां हो तुम

ढूंडती रहती हूँ तुम्हे भीड़ मे कहां हो तुम? मैं तन्हा अकेली सदा ही तुम्हारे विचारो में खोई रहती हूँ। ...
Read More
रूहानी भी रूमानी भी

रूहानी भी रूमानी भी

रूह मेरी देवधाम हो जैसे और तुम......हां तुम उस देवालय में स्थापित ईश्वरीय मूरत है न तिलस्मी सा बन्धन अपना ...
Read More
कच्चे धागे

कच्चे धागे

यूँ जब भी मुस्कुराते हो, मेरे अश्कों पर तुम। तो मेरा कागज दिल, न जाने कितने टुकडों में बिखर जाता ...
Read More
दर्द सहज

दर्द सहज

पंक्तिया थोड़ी कठिन हैं ,पर हैं मेरे अल्फ़ाज़ सहज मेरे दिल के कागज़ पर, दर्द के बिखरे अहसास सहज इतनी ...
Read More
चेहरा खिला खिला सा है

चेहरा खिला खिला सा है

क्या बात हुई है बतला दो , जो इतनी दूर हो हमसे तुम । आँखों में नमी सी लगती है ...
Read More
नयन मेरे तू दीपक बन के जलना

नयन मेरे तू दीपक बन के जलना

नयन मेरे तू दीपक बन के जलना, मोम सा घुल रहा ये तन-मन, सपना कोमल पलकों में नूतन, लगे चांदनी ...
Read More
दोहा
मृत्यु भोज

मृत्यु भोज

गिरवी रखकर खेत को,करें मृत्यु का भोज। कैसी निर्मम रीत है, कितनी लंगड़ी सोच।। भरत दीप ...
Read More
Loading...