शेर-ओ-शायरी – ( Top Post )

 

#ख्वाइशें

#ख्वाइशें

#ख्वाइशे ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ आज भी उन ख्वाईशो से मैं लिपटकर सोता हूँ भले आज वो लाशें ही सही इन ठिठुरती सर्दियों ...
Read More
सच की जमी पर ये जीना अजीब है

सच की जमी पर ये जीना अजीब है

सच की जमी पर ये जीना अजीब है “चली मृत्यु जीवन से मिलने"  नसीब है . जीवन में भरी मृत्यु ...
Read More
क़ता (दर्द)
मासूमियत चेहरे की

मासूमियत चेहरे की

मासूमियत चेहरे की देख फरेबी कहता कौन.. बड़े दिल वालों के दिल में अकेले रहता कौन.. ज़रा ज़रा सी बात ...
Read More
प्यार क्या है सभी को बताना पड़ा

प्यार क्या है सभी को बताना पड़ा

प्यार क्या है सभी को बताना पड़ा। जह्र यू ही नहीं मुझ को खाना पड़ा।। दर्द‌ ही दर्द हैं इस ...
Read More
यादें साथ उम्रभर का

यादें साथ उम्रभर का

ठहर चुके लम्हों से सवाल किया जाता नहीं है मालूम शाम का परिंदा मुड़कर आता नहीं यादों के शहर ने ...
Read More
खुद को मार के ही दुनिया नसीब है

खुद को मार के ही दुनिया नसीब है

मंजिले तो बहुत भटकी हैं बहुत मेरी तलाश में ज़िंदगी ढूंढने में खोया रहा मैं अपनी लाश में मुर्दा बन ...
Read More
रिश्तों की अहमियत का जमाना कहाँ रहा!

रिश्तों की अहमियत का जमाना कहाँ रहा!

गजल छलकने वाले जाम का मयख़ाना कहां रहा! आजकल दिलजलों का ये ठिकाना कहां रहा! वो बैच गए पैसों पर ...
Read More
लगा है जख़्म गहरा

लगा है जख़्म गहरा

गज़ल 1222×4 लगा है जख़्म गहरा दिल पे दिखलाया नहीं जाता। इसे समझेगा क्या कोई ये समझाया नहीं जाता। जमाने ...
Read More
ग़ज़ल (अन्य)
उड़ते हवा में दाग

उड़ते हवा में दाग

बुझने लगे चराग हमारे तो शहर में | ऐसी लगी है आग हमारे तो शहर में | ++ मिलती सजा ...
Read More
तेरे बारे में जब

तेरे बारे में जब

तेरे बारे में जब सोचा नहीं था। दिवानाथा मगर इतना नहीं था। जुदातुम हो गये हंस करके जानां, किनम थी ...
Read More
Loading...