Close
अनिल शर्मा
4
1
0 Followers
619
19-12-2017
रचनाकार
सरकारी कर्मचारी
सादुलपुर/सादुलपुर/चुरू/राजस्थान/भारत
दस्तूर-ए-इश्क़ की कैसी अजब सी ये रवायत है मुझे तुमसे तुम्हें मुझसे ,,,,कुछ तो शिकायत है गुजरते वक़्त से ये जज्बा जरा भी कम नहीं होता फ़क़त चाहत नहीं कोई,ये तो इबादत है #Anil
अनिल
शर्मा
2