Close
चंचल औदिच्य
201
12
0 Followers
809
17-02-2018
रचनाकार
Lic
Jagjit shing mirja galib sahab तुम ही तुम दिखते हो हमें कुछ हुआ तो जरूर है .... ये आईने की भूल है या मस्त निगाहों का कसूर
कविता कहानी लिखना पढना कभी किसी जमाने में पत्रिका मे छपी भी है आजकल fb पे बस ।
चंचल
औदिच्य
38


कविता (प्रेम) (2) कविता (वेदना) (1) कविता (अन्य) (3) नज़्म (संदेशात्मक) (1) 12