परखना मत परखने में कोई अपना नहीं रहता

शायर बशीर बद्र की ग़ज़लें

परखना मत परखने में कोई अपना नहीं रहता
किसी भी आईने में देर तक चेहरा नहीं रहता

बडे लोगों से मिलने में हमेशा फ़ासला रखना
जहां दरिया समन्दर में मिले दरिया नहीं रहता

हजारों शेर मेरे सो गये कागज की कब्रों में
अजब माँ हूँ कोई बच्चा मेरा ज़िंदा नहीं रहता

तुम्हारा शहर तो बिल्कुल नये अंदाज़ वाला है
हमारे शहर में भी अब कोई हमसा नहीं रहता

मोहब्बत एक खुशबू है हमेशा साथ रहती है
कोई इंसान तन्हाई में भी कभी तन्हा नहीं रहता

कोई बादल हरे मौसम का फ़िर ऐलान करता है
ख़िज़ा के बाग में जब एक भी पत्ता नहीं रहता

ख़िज़ा -पतझड़ की ऋतु , अवनति काल

★★★★★★★
ग़ज़ल – बशीर बद्र  ( सैयद मोहम्मद बशीर )
ग़ज़ल गायक – जगजीत सिंह
एल्बम – आईना

         

Share: